Enter your email address:


Subscribe for Latest Schemes of Government via e-mail Daily
Free ! Free ! Free!

Delivered by FeedBurner

प्रधानमंत्री आवास योजना Prime Minister Awas Yojana (PMAY)
माननीय प्रधानमंत्री ने राष्ट्र की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूर्ण हो जाने पर वर्ष 2022 तक सभी के लिए आवास की परिकल्पना की है। इस उद्येश्य की प्राप्ति के लिए केन्द्र सरकार ने एंक व्यापक मिशन "2022 तक सबके लिए आवास" शुरू किया है। 25 जून 2015 को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने इस बहुप्रतीक्षित योजना को प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम से प्रारम्भ किया है।
Hon’ble Prime Minister envisioned housing for All by 2022 when the Nation completes 75 years of its Independence. In order to achieve this objective, Central Government has launched a comprehensive mission “Housing for All by 2022”. This much awaited scheme has been launched by the Prime Minister of India, Sh. Narendra Modi on 25th June, 2015 as Pradhan Mantri Awas Yojana.
.

Gramin Awas Yojana "Gramin" under PM Awas Yojana

2022 तक सबके लिए आवास हेतु प्रधानमंत्री आवास योजना की ग्रामीण आवास योजना- 'ग्रामीण' का क्रियान्वयन

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ग्रामीण आवास योजना 'ग्रामीण' के क्रियान्वयन को अनुमति प्रदान कर दी है। इस योजना के तहत सभी बेघर और जीर्ण-शीर्ण घरों में रहने वाले लोगों को पक्का मकान बनाने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। 

इस परियोजना के क्रियान्वयन हेतु 2016-17 से 2018-19 तक तीन वर्षों में 81975 रुपये खर्च होंगे। यह प्रस्तावित किया गया है कि परियोजना के अंतर्गत वर्ष 2016-17 से 2018-19 के कालखंड में एक करोड़ घरों को पक्का बनाने के लिए मदद प्रदान की जाएगी। दिल्ली और चंडीगढ़ को छोड़ कर यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में पूरे भारत में क्रियान्वित की जाएगी। मकानों की क़ीमत केंद्र और राज्यों के बीच बांटी जाएगी। 

विस्तृत जानकारी निम्न हैः- 

क) प्रधानमंत्री आवास योजना की ग्रामीण आवास योजना- ग्रामीण का क्रियान्वयन।


ख) ग्रामीण क्षेत्रों में एक करोड़ आवासों के निर्माण के लिए 2016-17 से 2018-19 तक तीन वर्षों में मदद प्रदान की जाएगी। 

ग) समतल क्षेत्रों में प्रति एकक 1,20,000 तक एवं पहाड़ी क्षेत्रों में 1,30,000 तक सहायता में बढ़ोतरी। 

घ) 21,975 करोड़ रुपए की अतिरिक्त वित्तीय आवश्यकताओं की पूर्ति राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) से की जाएगी। 

ड.) लाभान्वितों की पहचान के लिए सामाजिक-आर्थिक-जातीय जनगणना- 2011 का उपयोग। 

च) परियोजना के तहत लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए राष्ट्रीय स्तर पर तकनीकी सहायता हेतु नेशनल टेकनिकल सपोर्ट एजेंसी का गठन।

क्रियान्वयन की रणनीति एवं लक्ष्यः- 

पूर्ण पारदर्शिता एवं निष्पक्ष्ता सुनिश्चित करते हुए लाभान्वितों की पहचान का कार्य सामाजिक-आर्थिक-जातीय जनगणना की सूचनाओं का प्रयोग कर किया जाएगा। 

पूर्व में सहायता प्राप्त लाभान्वितों एवं अन्य कारणों से अयोग्य लोगों की पहचान के लिए सूची ग्राम सभा को दी जाएगी। अंतिम सूची का प्रकाशन किया जाएगा।

घरों के निर्माण की क़ीमत केंद्र एवं राज्य द्वारा समतल क्षेत्रों में 60:40 के अनुपात में तथा पहाड़ी/ उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों हेतु 90:10 के अनुपात में रखी जाएगी। 

लाभान्वितों की वार्षिक सूची की पहचान ग्राम सभा द्वारा सहभागिता पूर्वक की जाएगी। मूल सूची की प्राथमिकता में परिवर्तन के लिए ग्राम सभा को लिखित में न्यायसंगत ठहराना होगा। 

लाभान्वित के खाते में सीधे धनराशि स्थानांतरित की जाएगी।

फोटोग्राफ एप के माध्यम से अपलोड किए जाएंगे, भुगतान की प्रगति को लाभान्वित एप के माध्यम से देख पाएंगे। 

लाभान्वित मनरेगा के अंतर्गत 90 दिनों के अकुशल श्रम का अधिकारी होगा, सर्वर से लिंक कर तकनीकी आधार पर इसको सुनिश्चित किया जाएगा।

मकानों की संरचना ऐसी होगी जो क्षेत्रीय आधार पर उपयुक्त हों, मकानों की रचना में ऐसी खासियतें रखी जाएंगी जो उन्हें प्राकृतिक आपदाओं से बचा सकें। 

मिस्त्रियों की संख्या में कमी को देखते हुए उनके प्रशिक्षण की व्यवस्था भी की जाएगी।

मकान बनाने में प्रयुक्त सामग्री की अतिरिक्त ज़रूरत को देखते हुए ईंटों के निर्माण हेतु सीमेंट या फ्लाई एश का मनरेगा के अंतर्गत कार्य किया जाएगा। 

लाभान्वित को 70,000 रुपए तक का ऋण लेने की सुविधा प्रदान की जाएगी। 

मकान का क्षेत्रफल मौजूदा 20 वर्ग मीटर से बढ़ाकर भोजन बनाने के स्वच्छ स्थान समेत 25 वर्ग मीटर तक किया जाएगा।

परियोजना से जुड़े सभी लोगों के लिए गहन क्षमता सर्जक प्रक्रिया रखी जाएगी। 

ज़िला एवं ब्लॉक स्तर पर आवासों के निर्माण हेतु तकनीकी सुविधाएं प्रदान करने के लिए मदद मुहैया कराई जाएगी।

आवासों के निर्माण की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए एवं केंद्र और राज्य सरकारों को तकनीकी मदद देने के लिए एक नेशनल टेकनीकल सपोर्ट एजेंसी का गठन किया जाएगा। 

मकान एक आर्थिक सम्पत्ति है एवं स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्रों में सकारात्मक प्रभाव डालने के साथ ही सामाजिक उन्नति में योगदान देता है। किसी परिवार के लिए रहने का स्थाई मकान होने के प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष फायदे अमूल्य एवं ढेरों हैं।

निर्माण क्षेत्र भारत में दूसरा सबसे बड़ा रोज़गार प्रदाता है। इस क्षेत्र का 250 से भी ज़्यादा अधीनस्थ उद्योगों से वास्ता है। ग्रामीण आवास योजना के विकास से ग्रामीण समाज में रोज़गारों का सृजन होता है और इससे गांवों के अर्थतंत्र का विकास होता है। 

रहने के लिए वातावरण बेहतर होने के अप्रत्यक्ष फायदे श्रम उत्पादकता एवं स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव के रूप में होते हैं। पोषण, स्वच्छता, माता एवं बच्चे के स्वास्थ्य समेत मानव विकास के मापदण्डों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। जीवन स्तर बेहतर होता है।

***
स्रोत : PIB


56 comments:

  1. Ye suchi jo gram panchayat ko di jati hai yahi par kamisankhori hoti hi jab inira awas me 20000rupaye le liye jate hai to ise koun chodega.iska upay kare aor patro ke bajaye apatro ka chayan hota hai yaha tak ki huwa bpl suchi2002 me bhi pradhano ne apne khas logo ko rakha

    ReplyDelete
    Replies
    1. Shi baat ki h aapne mishre ji.upr se itni bdi bdi bate Hoti h ki hmne wo kr Liya .hm ye yojna le aaye lekin sare chor baithe h dhratal pr koi Kam nhi hota .aaj bhi ghuskori apni chrm pe h

      Delete
  2. Ye suchi jo gram panchayat ko di jati hai yahi par kamisankhori hoti hi jab inira awas me 20000rupaye le liye jate hai to ise koun chodega.iska upay kare aor patro ke bajaye apatro ka chayan hota hai yaha tak ki huwa bpl suchi2002 me bhi pradhano ne apne khas logo ko rakha

    ReplyDelete
  3. Ye yojana gramino ko fayada pahunchayegi

    ReplyDelete
  4. जिन को इंदीरा अावास एवंम तत्‍सम योजना के तहत अभी अभी घरकुल या घर मिले उनके नाम इस योजना के यादी मे पाये गये है कया ये ठिक है्---- क्‍या ये बाते भी ठिक है कुछ लोगे के तो पहीली योजना के काम चालु है और उनके नाम भी इस यादी मे अाये और कुछ लोग कई दिनो से केवल प्रतिक्षा कर रहे है क्‍या ये योजना जिनकी संख्‍या जादा है या जिनका राजकिय क्षेत्र मे वजन है उनके ही लिये है ----परदर्शकता कहा है-------

    ReplyDelete
  5. हमने देखा है इस योजना का असर, जिन लोगो को इंदीरा आवास एवंम तत्‍सम योजना के तहत घर मिल चुके है या जिन लोगो के घ्‍ारोकाम प्रगतिपर है उन्‍ही लोगो के नाम इस योजना के सुची मे है--- और कुछ लोग घ्‍ारको की केवल प्र‍तिक्षा कर रहे है मा- मोदीजी स्‍ाीटीम मे चल रही गैरव्‍यवहार को पहीले रोकीये तबी हम सचमुच के गरीबोको घर मिल सकता है--- मा- मोदीजी हमे घर मत दिजीये लेकीन गरीब गरीब करके हमारा मजाक मत उडाई ये ---गरीब को समर्पित कोई सरकार आज तक नही हुई ना होगी सब सरकारे मतो के गठो को समर्पित है ---यही बात देखाकर योजनाये बनाई जाती है ---

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमने देखा है इस योजना का असर, जिन लोगो को इंदीरा आवास एवंम तत्‍सम योजना के तहत घर मिल चुके है या जिन लोगो के घ्‍ारोकाम प्रगतिपर है उन्‍ही लोगो के नाम इस योजना के सुची मे है--- और कुछ लोग घ्‍ारको की केवल प्र‍तिक्षा कर रहे है मा- मोदीजी स्‍ाीटीम मे चल रही गैरव्‍यवहार को पहीले रोकीये तबी हम सचमुच के गरीबोको घर मिल सकता है--- मा- मोदीजी हमे घर मत दिजीये लेकीन गरीब गरीब करके हमारा मजाक मत उडाई ये ---गरीब को समर्पित कोई सरकार आज तक नही हुई ना होगी सब सरकारे मतो के गठो को समर्पित है ---यही बात देखाकर योजनाये बनाई जाती है ---

      Delete
    2. hamne a dekha hai aksar panchayat jise chunta hai unhi logo ko es yojna ka labh milta hai aur panchayat bhi kinko chunta hai jo apna karibi ho apne jan pahechan ko panchayt ki es galti ki wajah se wakai jo es pradhan mantri awas yojna ka hakdar hai unhe nai mil pata sarkar ke pas to pura jankari raheta hai to fir wakai jo dene layak hai use kyo nahi milpata kyo bager chanbhin kiye panchayat ke bharose me pas kar dete hai aur hota kya hai ak aadni ko do do bar mil jata hai aur wakai jo eske hakdar hai o to panchayat ke chakkar katte katte thak jate hai

      Delete
  6. Mere pas paka ghar ni h me es yojna ka hakdar hu lekin mujhe eska fayda ni mila. Avas teacher ke bete ko ya sarpanch ke bete ko diye jate h

    ReplyDelete
  7. Mere pas paka ghar ni h me es yojna ka hakdar hu lekin mujhe eska fayda ni mila. Avas teacher ke bete ko ya sarpanch ke bete ko diye jate h

    ReplyDelete
  8. sahi baat hai......hmare pas kuch bhi nhi h gaon mai bs ek plot hai ..indira awas yojna mai hmne bhut baar form bhre ....gaon m jo dabang hain ya swarn ........un sbke ghr bhi bn gye aur hm bs chkkr kat te hi rhe gye pradhan k ghr k

    ReplyDelete
  9. mere to bs modi ji se ek hi sawal hai............. mere pas gaon m ek plot h bs...............kya hm greeb muslim k liye bhi apke kas kuch hai.............ya indira gandhi awas yojna ki trah hme phir se pagal banaya jayega

    ReplyDelete
  10. online from kab gire eake liye wapsite kon si h

    ReplyDelete
  11. JOTA RAM MERE PAS EK KACHHA MAKAN H AUR MERA NAM LIST ME NHI H JO KI MENE PANCHAYAT ME APIL DARJ KI H JO KI ME KABIL HU YA NHI

    ReplyDelete
  12. JO Sarpanch ke jankar hote hai unko hi is Yojna Ka lab Hota hai ..... Or govn ki rajneeti to aapko pata h kesi hoti hai .....

    Corporation...........?

    ReplyDelete
    Replies
    1. right ye aap sahi bol rhe h aisa hi hota h JO sarpanch ke jankar hote h unhi ko labh hota h

      Delete
  13. ईस योजना का लाभ गरीबों को कैसे मिले, पहले ईस बात पर सोचना चाहिए, हमारे यहां किसी को ईसके बारे में कुछ भी जानकारी नहीं है

    ReplyDelete
    Replies
    1. BILKUL SAHI BAAT HAI AAJ M KUCH GARIBO KE LIYE KANPUR NAGAR NIGAM GYA TO UNHONE BOLA FORM DUDA SE MILEGA JB DUADA GYA TO WAHA BOLA GYA YAHA SE NHI NAGAR NIGAM SE KAAM HOGA JB ITNA HE GARIBO KA DHIYA H SR. KO TO EK GUJARISH H ISKO ONLINE KR DENA CHAYE TAKI KOI GARIB NET CAFE SE KAM SE KAM FORM TO FEL KR SKE

      Delete
  14. प्रधान मंत्री ग्रामीण आवासीय योजना मे डिजाईन मिक्स कंक्रीट मे कंक्रीट design mix concrete me IS;456:2000 Amendment No .03 me fiber reinforced concrete के बारे मे अधिकतर उच्च स्तरीय अधिकारियो और इंजिनियर को भी जानकारी नहीं है जबकि इसके बारे मे CVC CTE केंद्रीय सतर्कता आयोग से भी परिपत्र जारी हो चूका है

    ReplyDelete
  15. क्या बतलाये,साहब जी!गरीबों को बस रोना हैं, कहाँ घर की बात करते है! कोई भी जानकारी पारदर्शिता नहीं हैं आम लोगो से दूर,मैं अपने गाँव /शहर की बात कर रहा हूँ ,देश की तो नहीं कह सकता! चारो तरफ भ्रषटाचार लिप्त हैं.

    ReplyDelete
  16. This is funtastic apportunity to buildup home at gramin area .... Thanks alot PM Modiji creat that yojna........ Sarpanch Ram Patare(Maharashtra-Shirdi).

    ReplyDelete
  17. इस योजना का सबसे बड़ा फायदा अधिकारियों का ही होता है , और तो और ये योजना ग्रामपंचायत के अधिकारों में नहीं होनी चाहिए . इस योजना में रोजगार हमी का भी कोई संबध नहीं आना चाहिए. तब जाके सफल होगी

    ReplyDelete
    Replies
    1. ग्राम पंचायत में बहुत भ्रष्टाचार है । ग्राम पंचायत योजना में शामिल होगी तो होगा भंटाधार ।

      Delete
  18. Mai akshar dekha hun ki serve me real patro ko nahi shamil kiya jata hai balki apatro ko hi samil kiya jata hai kyonki serve ghar- ghar jakar nahi kiya jata balki Pradhan , BDC aur jameedaron ke pas baith kar khanapurti karke report laga dete hai. Jo log sahi garib aur awaas ke hakdar hote hai unhe to serve ke dauran hi kat diya jata hai. Esiliye aap se request hai ki Awaas ki suchi Social,Economical and Cast Servey 2011 ko aadaar na banaya jay . eske asthan per phir se serve karaya jay.
    Lokesh Kumar Patel (Pratapgarh)

    ReplyDelete
  19. Mai akshar dekha hun ki serve me real patro ko nahi shamil kiya jata hai balki apatro ko hi samil kiya jata hai kyonki serve ghar- ghar jakar nahi kiya jata balki Pradhan , BDC aur jameedaron ke pas baith kar khanapurti karke report laga dete hai. Jo log sahi garib aur awaas ke hakdar hote hai unhe to serve ke dauran hi kat diya jata hai. Esiliye aap se request hai ki Awaas ki suchi Social,Economical and Cast Servey 2011 ko aadaar na banaya jay . eske asthan per phir se serve karaya jay.
    Lokesh Kumar Patel (Pratapgarh)

    ReplyDelete
  20. 2011 का सर्वे कैन्सल करके 2016 की नई सर्वे होनी चाहिये
    और पाहिले जो मंजूर थे उनको मंजूरी देनी चाहिए

    ReplyDelete
  21. 2011 का सर्वे कैन्सल करके 2016 की नई सर्वे होनी चाहिये
    और पाहिले जो मंजूर थे उनको मंजूरी देनी चाहिए

    ReplyDelete
  22. manniya mahoday ji

    serve ke mutabik gramin kshetra ho ya shahri mai to sirf ye janta hu her vyakti ka record bharat sarkar ya state sarkar ke pass rhta h eske vavjud garib jo ki real me garib avam jo ashay h unko patrata suchi me samil nhi kiya JATA H esme sabse jyada dhandhli giri vibhag ke adhikari avam kshetriy neta krwate h

    ReplyDelete
  23. प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामिन के लिये आवेदन फॉर्म नही है क्‍या

    ReplyDelete
  24. manniy pradhan mantriji ye aapki suvidya ka koibhi puritarahse upyog nahi ho raha. yaha sab brshtachar he. yaha gariboko nahi milta ghar. jiskepas rajnitik power or paisa he usike ghar bante he. mera aapse kehana he ki jab itna kiya he to ye farm bharneki sestim online karni chaiye thi kiwki yaha socya jata he ki kiska faem age bejna he ya. is yojna ka lab gariboko kabi nahi hoga.

    ReplyDelete
  25. Kiya government employe ko milega jiske pass pakka ghar nahi hai.

    ReplyDelete
  26. sir bpl aawas yojna palwal haryana ki list kaise show hoge

    ReplyDelete
  27. ग्राम प्रधान उन लोगो का नाम ही लिस्ट में नहीं डालता है , जिनको इस इस्कीम की जरूरत है , इसका क्या समाधान है , अगर कोई बेहतर समाधान आपके पास है , मेरे मेल आईडी पर जरूर शेएर करे ,ramjeet171988@gmail.com

    ReplyDelete
  28. ग्राम प्रधान उन लोगो का नाम ही लिस्ट में नहीं डालता है , जिनको इस इस्कीम की जरूरत है , इसका क्या समाधान है , अगर कोई बेहतर समाधान आपके पास है , मेरे मेल आईडी पर जरूर शेएर करे ,

    ReplyDelete
  29. ग्राम प्रधान उन लोगो का नाम ही लिस्ट में नहीं डालता है , जिनको इस इस्कीम की जरूरत है , इसका क्या समाधान है , अगर कोई बेहतर समाधान आपके पास है , मेरे मेल आईडी पर जरूर शेएर करे ,

    ReplyDelete
  30. ग्राम प्रधान उन लोगो का नाम ही लिस्ट में नहीं डालता है , जिनको इस इस्कीम की जरूरत है , इसका क्या समाधान है , अगर कोई बेहतर समाधान आपके पास है , मेरे मेल आईडी पर जरूर शेएर करे ,

    ReplyDelete
  31. इस फार्म को आॅनलाईन भरना है या मैनुअली। मैनुअली भरकर जमा कहां कराना है, आॅन लाईन है तो लिंक क्या है। योजना की जानकारी तो मिल रही है किन्तु भरने की प्रक्रिया की ठीक जानकारी नहीं मिल पा रही है, कोई तो बताओ।

    ReplyDelete
  32. gram pradhan to sunte hi nahi aap hi suno sir aavaas dilba do sir jp78555@gmail.com par share karna sir

    ReplyDelete
  33. 2011 सामाजिक और आर्थिक सर्वे में बहुत लापरवाही की गयी है । जो सूची बनीं हुई है। उसमे ज़्यादातर पात्र लाभार्थियों के नाम छूट गए है लिहाजा यह सर्वे पुनः किया जाना अत्यन्त आवश्यक है।। नहीं तो पात्र लाभार्थियों को इस योजना का लाभ नही मिल पायेगा।।।

    ReplyDelete
  34. गरीबोको घर मिल रहा है. बहूत अच्छा योजना

    ReplyDelete
  35. Mere pass ghar nhi he kiraye pe rehta hun me is yojna ka fayda kese uthata hun. Mere 2 bachche bhi he jo abhi skool jana suru kiya he. Meri koi inkam nhi he me majduri ka kaam karta hun. kya koi mujhe bata sakta he is youjna ka kese fayda utha saku.

    ReplyDelete
  36. gramin awas yojna ki last date or document kya kya h plz koi bataayega jaldi answer dijiye

    ReplyDelete
  37. Gamer gram Sabha main to ayes logo ko Awas mila hai jis ke ghar phale se pkake makan hai

    ReplyDelete
  38. jis tarah se gram panchayato me dhadhali hoti hai isase kya garib logo ko is yojana ka labh kaise mil payega

    ReplyDelete
  39. महोदय बहुत बड़ी विडम्बना तो यह है की ग्राम प्रधान से लेकर विडिओ व वह से लेकर सीडीओ तक कमिशंखोरो का हुजूम लगा हुवा है

    ReplyDelete
  40. gramin awas yojna kab se chalu ho gi online

    ReplyDelete
  41. sar gramin yojna online kar ke jo yogy ho uni ko de

    ReplyDelete
  42. Sir jI iski list jo aai hai usme 6 naam hi hai kya aur naam nahi badhenge jab ki bahut se patra log chut gaye hai

    ReplyDelete
  43. ग्राम प्रधान और विडियो सेक्रेटरी मिलकर 1/2 का हक साले खा जाएंगे साले भूखे मर रहे है जब से नोटबंदी सुरू हुई है

    ReplyDelete
  44. Sir Ji please publish the name of beneficiary online after they get it.

    ReplyDelete
  45. इस योजना से ग्रामीण गरीब जनता का भला नहीं होगा
    क्योकि चुनाव ग्राम सभा के प्रधान ही करेगे
    अगर ये योजना ऑनलाइन होकर पात्र चुने जाते तो इसका लाभ
    गरीब जनता तक पहुच जाता

    ReplyDelete
  46. श्री मान मेरा नाम सूची में नहीं है /मेरा बारह लोगों का परिवार है /कमाई कोई साधन नहीं है/ केवल पिताजी मज़दूरी कर के जीवन यापन कर रहे हैं हम दस भाई और बहनों को पढ़ा रहे हैं /सभी माता और पिता का यही सपना होता है /मेरे बच्चों का भविष्य उज्जवल हो

    ReplyDelete